शिव को साक्षी मानकर प्रेमी यगल ने मंदिर में लिए सात फेरे

शिव को साक्षी मानकर प्रेमी यगल ने मंदिर में लिए सात फेरे

जाफरगंज थाना क्षेत्र के गांव देवरी बुजुर्ग स्थित शिव मंदिर में प्रेमी जोड़े ने भगवान शंकर को साक्षी मानकर भंवर के फेरे लेकर एक दूसरे के साथ जीने और मरने की कसम खाने के साथ ही नवयुगल परिणय सूत्र मे बंध गए। ग्रामीणों ने खुशी के उत्साह में मौजूद लोगों को मिष्ठान वितरण किया। टरुवापुर गांव निवासी स्व शिवराम कुरील का पुत्र पवन कुमार का गाजीपुर थाने के झब्लपुर गांव की सुधा देवी से बीते दो वर्षों से प्रेम प्रसंग चल रहा था। दोनों के परिजनों की आर्थिक स्थिति बेहद कमजोर थी। सधा पवन के साथ शादी न होने पर आत्महत्या कर लेने की बात कहती थी। झब्लपुर गांव से सुधा शुक्रवार को पवन के घर आ गई। शादी करने की जिद करने लगी। परिजनों ने देवरी बुजुर्ग गांव के प्राचीन शिव मंदिर में वैदिक मंत्रोच्चारण के बीच भगवान शंकर को साक्षी मानकर दोनों ने सात फेरे लिए तथा नवयुगल ने एक दूसरे के साथ जीवन जीने की शपथ लेने के साथ बंधन में बंध कर एक दूसरे के साथ जिंदगी जीने का फैसला लिया। प्रेमी युगल के विवाह के दौरान वहां मौजद लोगों ने मिष्ठान वितरण कर लोगों का मुंह मीठा कराया तथा वर.वधू को शुभ आशीर्वाद दिया। परिणय सूत्र में बंधने के बाद दोनो नवयुगल खुश दिखाई दिए।