लाखों की रंगदारी मांगने के मामले में पकड़े गए आरोपियों में सभी शिक्षित हैं। कोई बीएड है तो कोई टीईटी डिग्री धारक।

लाखों की रंगदारी मांगने के मामले में पकड़े गए आरोपियों में सभी शिक्षित हैं। कोई बीएड है तो कोई टीईटी डिग्री धारक।

खागा। पुलिस की पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि आलीशान जिंदगी जीने के लिए उन्होंने शार्ट-कट अपनाया। हालांकि यह रास्ता उन्हें हवेली की जगह जेल की सलाखों के पीछे ले गया। 20 लाख रुपये की रंगदारी मांगने वाले चारों आरोपियों को सोमवार को खखरेरू पुलिस ने जेल भेज दिया।लाखों की रंगदारी मांगने के मामले में पकड़े गए आरोपियों में सभी शिक्षित हैं। कोई बीएड है तो कोई टीईटी डिग्री धारक।

। इंस्पेक्टर ने बताया कि सभी अभियुक्त शिक्षित हैं। पूछताछ में सबने यही बात कही कि उनके पास पैसों की कमी थी और इसलिए उन्होंने यह हरकत की है। बता दें कि सूरज के पास एक चार पहिया गाड़ी है, जिससे यह सभी दिनभर घूमते हुए देखे जाते थे। अभियुक्त सूरज पटेल बीएड पास है और टीईटी पास कर चुका है। जबकि अन्य हाईस्कूल, इंटर तक शिक्षित हैं।
इनसेट-खखरेरू थाना प्रभारी नागेंद्र कुमार नागर ने पुलिस टीम के साथ चारों आरोपियों को पनिहा बाबा चौराहा के पास से गिरफ्तार कर लिया। इनकी पहचान मोहम्मद आमिर पुत्र असगर अली, मोहम्मद चांद पुत्र मोहम्मद शमीम निवासीगण बरहटा गांव, मोहम्मद अफजल पुत्र मोहम्मद असलम निवासी लतीफ रोड कस्बा खखरेरू व सूरज पटेल पुत्र जितेंद्र सिंह निवासी गुरगौला के रूप में हुई है। इसमें अभियुक्त सूरज के पिता बाइक एजेंसी में काम करते हैं। इसी तरह से चांद के पिता एक गैराज में मैकेनिक हैं और अफजल के पिता कपड़े का कारोबार करते हैं जबकि आमिर के पिता बाहर रहते है
डॉक्टर व व्यापारी से मांगी थी रंगदारी
इसमें रोहित को कहा गया कि उसकी हत्या की सुपारी उन्हें मिली है। जबकि डॉक्टर विद्याकान्त से 20 लाख रुपए की मांग की बता दे कि आरोपियों द्वारा रक्षपालपुर निवासी डॉक्टर विद्याकान्त सिंह व खखरेरू कस्बा निवासी रोहित केसरवानी से 28 जुलाई को फोन किया गया था।। मांग पूरी नहीं करने पर पिता पुत्र की गोली मारकर हत्या करने की धमकी दी गई थी। पुलिस ने दो मुकदमे दर्ज कर जांच शुरू की थी।