भारत आर्थिक मोर्चे पर क्या चीन को भी पीछे छोड़ेगा?

भारत आर्थिक मोर्चे पर क्या चीन को भी पीछे छोड़ेगा?

भारत आर्थिक मोर्चे पर क्या चीन को भी पीछे छोड़ेगा?भारत में कोरोना वायरस महामारी और लॉकडाउन के कारण गिर रही अर्थव्यवस्था के लिए अच्छी ख़बर है.

साल 2020 में भारत में नकारात्मक वृद्धि दर के बाद अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) ने अब 2021 में भारत की आर्थिक वृद्धि दर 11.5 प्रतिशत रहने का अनुमान लगाया है.

शुक्रवार को संसद में पेश किए गए आर्थिक सर्वे में भी 2021-22 वित्त वर्ष में भारत की वृद्धि दर के 11 फ़ीसदी रहने का अनुमान जताया है.

दुनिया की बड़ी अर्थव्यवस्थाओं के बीच भारत एकमात्र ऐसा देश है, जिसकी वृद्धि दर दो अंकों में रहने का अनुमान है.

आईएमएफ़ के अनुमान के मुताबिक़ चीन 2021 में 8.1 प्रतिशत की आर्थिक वृद्धि दर के साथ दूसरे स्थान पर होगा. उसके बाद स्पेन में 5.9 प्रतिशत और फ्रांस में 5.5 प्रतिशत वृद्धि दर रहने का अनुमान है.

आईएमएफ ने साल 2020 के आंकड़ों को संशोधित करते हुए बताया है कि 2020 में भारतीय अर्थव्यवस्था में आठ प्रतिशत की गिरावट का अनुमान है. चीन एकमात्र बड़ा देश है, जिसकी वृद्धि दर 2020 में 2.3 प्रतिशत रहने का अनुमान है.

आईएमएफ के अनुसार 2022 में भारत की आर्थिक वृद्धि दर 6.8 प्रतिशत और चीन की 5.6 प्रतिशत रहने की संभावना है.