त्योहार के मौके पर मिलावटखोर सक्रिय  हैं। दूध, घी, तेल खाद्य सामग्रियों में मिलावट पाई जा रही है

त्योहार के मौके पर मिलावटखोर सक्रिय  हैं। दूध, घी, तेल खाद्य सामग्रियों में मिलावट पाई जा रही है

त्योहार के मौके पर मिलावटखोर सक्रिय  हैं। दूध, घी, तेल खाद्य सामग्रियों में मिलावट पाई जा रही है। हालत यह कि जांच में हर  नमूना फेल हो रहा है। खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन 738 नमूनों में से 361 नमूने फेल पाए गए। इनमें 47 नमूने नकली पाए।

खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन (एफएसडीए) की जांच में सबसे ज्यादा दूध और इससे निर्मित सामग्री के नमूने फेल मिले। 2019-20 में दूध प्रोडक्ट के 166 में से 73 नमूनों में मिलावट पाई गई। इसमें दूध सिंथेटिक और घी नकली मिला। 
सुपारी-पान मसाला, नमक, चाय की पत्ती, पानी,  प्रोडक्ट समेत 54 सामग्रियों के नमूने फेल मिले। सब्जी पर रंग और फलों पर मोम लगा पाया । इस साल भी 235 में से 140 से अधिक नमूने फेल । इसमें भी दूध, पनीर, घी, नमकीन, तेल,  समेत अन्य सामग्री हैं। 
इतने नमूने हुए फेल
738 नमूनों की मिली रिपोर्ट, 361 नमूने कुल हुए , 298 नमूनों में मिलावट, 47 नमूने नकली, 16 मिस ब्रांड पाए गए। इसमें दूध के 73, खोआ के 16, पनीर के 16, घी के 8, सरसों के तेल के 33, रिफाइंड ऑयल के 15, मसालों के 15, दालों के 8, मिठाई के 22 और नमकीन के 26 नमूने फेल ।