जिले में अब कोरोना संक्रमितों की तादाद 113 हो गई है। प्रशासन ने तीनों गांवों को कंटेनमेंट जोन बना दिया है।

जिले में अब कोरोना संक्रमितों की तादाद 113 हो गई है। प्रशासन ने तीनों गांवों को कंटेनमेंट जोन बना दिया है।
फतेहपुर। अमौली। ब्लाक इलाके में कोरोना संक्रमित मिलने का सिलसिला थम नहीं रहा है। शनिवार को बुढ़ंदा में चौथा केस सामने आने से गांव में दहशत फैल गई। यहां 13 जून को दिल्ली से आए पति-पत्नी व बेटे की रिपोर्ट पॉजिटिव मिली थी। 14 जून को दिल्ली से मायके आई 25 वर्षीय युवती को 17 जून को सैंपलिंग के लिए नेवलापुर भेजा गया था। महिला की रिपोर्ट पॉजिटिव आने से ग्रामीण सहम गए हैं। सीएचसी के चिकित्सक डॉ. पुष्कर कटियार ने बताया कि युवती को एंबुलेंस से खागा एलवन श्रेणी के आश्रम पद्धति विद्यालय भेजा गया है। संपर्क में आने वाले परिजनों व दूसरे लोगों को सैंपलिंग के लिए भेज दिया गया है।
धाता पीएचसी के सिहारी पट्टी निवासी एक शख्स 10 जून को दिल्ली से लौटकर आया था। खागा सीएचसी के चितौली गांव की एक महिला 12 जून को दिल्ली से लौटी थी। 14 जून को अमौली सीएचसी के बुढ़ंदा गांव की महिला भी यहीं से आई थी। 17 जून को इन सभी का सैंपल पीजीआई लखनऊ भेजा गया था। शनिवार को आई रिपोर्ट में यह तीनों कोरोना संक्रमित निकले। डीएम संजीव सिंह ने बताया कि नए मामले सामने आने पर तीनों के गांवों को कंटेनमेंट जोन बना दिया गया। इन गांवों के रास्तों को चारों तरफ से सील कर दिया गया है। इससे कि आवाजाही न हो सके।
कोरोना संक्रमण के चौबीस घंटे के भीतर तीन नए मामले सामने आए हैं। इनमें दो महिलाएं हैं। जिले में अब कोरोना संक्रमितों की तादाद 113 हो गई है। प्रशासन ने तीनों गांवों को कंटेनमेंट जोन बना दिया है। आवाजाही पर रोक लगा दी गई है।

बुढ़ंदा गांव में चौथा संक्रमित निकलने से दहशत