खागा तहसील के नौबस्ता घाट में लोगों ने डुबकी लगाई और गंगाघाट में बने शिवालयों में पूजा अर्चना की।

खागा तहसील के नौबस्ता घाट में लोगों ने डुबकी लगाई और गंगाघाट में बने शिवालयों में पूजा अर्चना की।

संवाद सूत्र, बिदकी: चांदपुर स्थित गूढ़ेश्वर अखंड धाम चांदपुर में भी भक्तों ने जलाभिषेक किया। कुछ भक्तों ने तो दूर से भी माथा टेका और बेलपत्र चढ़ा कर लौट गए। जहानाबाद कस्बे के राज राजेश्वर मंदिर के गेट पर ताला पड़ा था। यहां पर पहुंचे भक्तों ने मंदिर के गेट पर ही जल व बेल पत्र अर्पित कर माथा टेका। गहरूखेड़ा के भरथरेश्वर धाम, अरगलेश्वर धाम अरगल में भी भक्तों ने जलाभिषेक किया। उधर खागा तहसील के नौबस्ता घाट में लोगों ने डुबकी लगाई और गंगाघाट में बने शिवालयों में पूजा अर्चना की। क्षेत्र के मझिलगांव के सिद्धपीठ कुंडेश्वर मंदिर में कपाट बंद रहे बाहर से लोगों भूतभावन भगवान शंकर के दर्शन किए। हथगाम के शिवालयों, अमनी, मोटेश्वर महादेव मंदिर किशुनपुर, अधरेश्वर मंदिर सेलरहा में लोगों ने जलाभिषेक किया। तहसील क्षेत्र में सावन के प्रथम सोमवार को डूडेश्वर धाम में पहुंचे भक्तों ने जलाभिषेक किया। सिद्धपीठों में कपाट बंद रहे तो दूरी से दर्शन किए वहीं गांवों के शिवालयों में स्थापित शिवलिग की पूजा अर्चना की गई। हालांकि मंदिर में भीड़ नहीं रही। फिर भी शारीरिक दूरी के मानक का पालन कर भक्तों ने दर्शन पाए। श्री सिद्धेश्वर धाम लालपुर में भक्तों के आने पर साबुन से हाथ धुलने के बाद ही मंदिर में प्रवेश दिया गया। मंदिर में एक-एक कर भक्त पहुंचे और जलाभिषेक किया।