कहिजरा मार्ग जर्जर, विकासखण्ड तक पहुंचना मील का पत्थर

कहिजरा मार्ग जर्जर, विकासखण्ड तक पहुंचना मील का पत्थर

विभागीय कर्मचारियों के अनदेखी उदासीन रवैया के चलते अमौली कस्बे से बरमपुर, क्रअहिरनपुर होते हुए कहिजरा मार्ग में कई वर्षों से लोक निर्माण विभाग एवं पी डब्लू डी के उदासीन रवैया के चलते जर्जर हुआ मार्ग जर्जर जिससे कई गांवों से आने वाले ग्रामीणों को विकाश खण्ड तक काफ मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। वही सरकार का गावो की जर्जर सड़को का मरम्मत कार्य हवा हवाई नजर आता दिख रहा है। अमौली कस्बे से होते हुए रास्ते में पड़ने वाले गांव बरमपुर अहिरनपुर केवट झलियन से होते हुए कहिजरा तक का सात किलोमीटर का मार्ग बड़े बड़े गड्डा में तब्दील हो चुका देखा जा सकता है। उक्त मार्ग से ग्रामीणों को आवागमन करने में लोक निर्माण विभाग की देख रेख में पी डब्लू डी के द्वारा बनाई गई अमौली कहिजरा सम्पर्क मार्ग से पड़ोसी जनपद हमीरपुर को जोड़ने वाले मार्ग का आलम यह है कि रास्ते की गिट्टियां तक जगह जगह से उखड़ चुकी है जिससे पूरा मार्ग गड्ढों में तब्दील हो चुका है। जिससे मार्ग से आवा गमन करना मुस्किलो भरा है गावो से चलकर विकाश खण्ड तक पहुचने वाले बुजुर्ग ग्रामीणों को आये दिन गड्डों में गिरकर चोटिल होते देखा जाता है। इतना ही नही इस मार्ग से दोपहिया वाहन तो दूर की बात है पैदल चलने वाले यात्रियों तक को मार्ग में चलना मुश्किल हो चुका है। लेकिन पी डब्लू डी के अधिकारी गण पता नही उक्त मार्ग को मरम्मतीकरण कराने के लिए किसके आदेश का इंतजार कर रहे है। जबकि केंद्र सरकार से लेकर प्रदेश सरकार तक गड्ढा मुक्त देश व प्रदेश होने की हुनक्कार भर रहे है। लेकिन विभगीय अधिकारियों की उक्त जर्जर हुए मार्ग की तरफ कोई भी दिलचस्पी नहीं दिखाई गांव के रामबली ,महावीर यादव, राकेश यादव, गोपाल निषाद, रामकुमार निषाद ग्राम प्रधान रज्जन लाल शुक्ला, रमेश चन्द्र बाजपेयी ,रज्जन लाल प्रजापति ,आदि ग्रामीणों का कहना है कि लोक निर्माण विभाग की उदासीनता के चलते कई वर्षों से अमौली कहिजरा मार्ग का मरम्मत कार्य नहीं करवाये जाने से उक्त मार्ग खस्ताहाल की स्थित में पहुच चुका है जिससे राहगीरों को चलने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है जबकि सरकार गड्ढा मुक्त भारत होने का दावा कर रही है लेकिन यह कि जमीनी हकीकत कुछ और ही दरशाती है सरकार का गड्ढा मुक्त भारत होने का दावा खोखला ही नजर आ रहा है। ग्रामीणों ने खस्ताहाल हुए रास्ते को ठीक करवाये जाने की शासन प्रशाशन से मांग की है। प्रदेश सरकार तरफ कोई भी दिल्जन लाल शुक्ला,