कृषि और किसान की महत्त्व

कृषि और किसान की महत्त्व

कृषि भारतीय अर्थव्यवस्था की केंद्र बिंदु है भारतीय जीवन की धुरी है आर्थिक जीवन का आधार रोजगार का प्रमुख स्रोत तथा विदेशी मुद्रा अर्जन का माध्यम होने के कारण कृषि को देश की आधारशिला कहा जाए तो कोई आती संयुक्त नहीं होगा स्वतंत्रता के पश्चात कृषि को देश की आत्मा के रूप में सुकरात हुए एवं खेती को सर्वोच्च प्राथमिकता प्रदान करते हुए देव के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने स्पष्ट किया था कि सब कुछ इंतजार कर सकता है मगर खेती नहीं इसी पथ का अनुसरण करते हुए भारत सरकार कृषि क्षेत्र को विकसित करने एवं कृषकों की आर्थिक स्थिति में सुधार करने हेतु अनेक कार्यक्रमों नीतियों व योजनाओं का संचालन कर रही है इन सभी प्रयासों व योजनाओं के क्रियान्वयन के बावजूद वर्तमान में कृषि अर्थव्यवस्था संकट के दौर से गुजर रही है कर्ज माफी का प्रावधान समाहित किया ताकि किसानों का खेती के प्रति रुझान बना रहे प्रतीकों की स्थिति को ध्यान में रखते हुए सरकार ने अपनी बहू की नीतियों एवं योजनाओं में भारतीय किसानों को प्राथमिकता प्रदान की है