ईडी ने संजय राउत की पत्नी को भेजा नोटिस

ईडी ने संजय राउत की पत्नी को भेजा नोटिस

प्रवर्तन निदेशालय ने पंजाब एंड महाराष्ट्र कोऑपरेटिव बैंक घोटाला मामले में शिवसेना नेता और राज्यसभा सांसद संजय राउत की पनी वर्षा राउत को नोटिस भेजा है। ईडी ने मनी लॉन्ड्रिंग मामले में पूछताछ के लिए उन्हें 29 दिसंबर को तलब किया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक ईंडी ने कुछ दिन पहले च्ड घोटाले के एक आरोपी प्रवीण राउत को गिरफ्तार किया था। जांच में प्रवीण के अकाउंट के वर्षा के अकाउंट में हुए बड़े ट्रांजेक्शन का पता चला था। वर्षा को उसी लेन देन के संबंध में पूछताछ के लिए बुलाया गया है।

सूत्रों के मुताबिक वर्षा राउत ने इस रकम को प्रॉपर्टी खरीदने लिया गया उधार बताया था। राउत ने एफिडेविट में रकम का जिक्र किया पीएमसी घोटाले में गिरफ्तार प्रवीण को संजय राउत का करीबी माना जाता है। सूत्रों के मुताबिक संजय राउत ने राज्यसभा चुनाव में दिए एफिडेविट में पत्री वर्षा के अकाउंट में आए पैसे को लोन बताया था। कार्रवाई राजनीति से प्रेरितरू नवाब मलिक राउत की पत्नी को ईडी का नोटिस देने को राकांपा नेता नवाब मलिक ने राजनीति से प्रेरित बताया है

। उन्होंने कहा. जब से बीजेपी की सरकार केंद्र में आई है तब से ईडी का खेल चल रहा है। विपक्ष के नेताओं को डराने के लिए नोटिस भेजे जाते हैं। राजनीतिक बदले की भावना से केंद्रीय एजेंसियों का इस्तेमाल हो रहा कर्ज है। जांच के नाम पर आप किसी को बदनाम कर दें मीडिया को बता दें कि हम नोटिस भेजने वाले हैं यह ठीक नहीं है। निर्दोष हैं तो डरने की क्या जरूरतः किरीट सोमैया इधर ईडी नेता किरीट सोमैया ने नवाब ब मलिक के बयान पर कहा कि पीएमसी बैंक घोटाले में 10 लाख लोगों के पैसे अटके हैं। कई गिरफ्तारियां भी हुई हैं।

बीजेपी के एक विधायक के बेटे को भी गिरफ्तार किया गया था। अगर आप निर्दोष हैं तो फिर डरने की क्या जरूरत है। क्या है पीएमसी बैंक घोटाला पिछले साल पीएमसी बैंक में घोटाले की हत्या एवं लूट से बात सामने आई थी। बैंक ने नियमों को ताक पर रखकर एचडीआईएल को भारी भरकम कर्ज दिया था। इसके बाद भारतीय रिजर्व बैंक ने बैंक के मैनेजमेंट को हटाकर अपना एडमिनिस्ट्रेटर नियुक्त किया था। घोटाला सामने वापस होने का इंतजार कर रहे हैं। पीएमसी बैंक घोटाले में 2 पाएनसा बकचाटालन2 ऑडिटर गिरफ्तार अब तक 7 आरोपियों की गिरफ्तारी मा किया मुंबई।

पंजाब एंड महाराष्ट्र को.ऑपरेटिव पीएमसी बैंक घोटाले में मुंबई पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा ईओडब्ल्यू ने सोमवार को दो ऑडिटरों को गिरफ्तार कर लिया। आरोपी ऑडिटरों के नाम जयेश संघानी और मोतीलाल वोरा केतन लकडावाला हैं। इन पर पीएमसी बैंक के अधिकारियों से मिलीभगत और कार्यकाल अनियमितताएं छिपाने में अहम भूमिका होने पांच का शक है। कुछ 1-आरोपी ऑडिटर पूछताछ में आक्रोश संतोषजनक जवाब नहीं दे पाए अपने संघानी और लकडावाला की गिरफ्तारी से आरोप पहले पुलिस ने उनसे पूछताछ भी की थी।

वैसे ईओडब्ल्यू के मुताबिक वे संतोषजनक जवाब को नहीं दे पाए। ईओडब्ल्यू को कुछ आरोपियों बाद और एचडीआईएल ग्रुप की कंपनियों के बीच जांच सांठगांठ होने का भी शक है। जांच अधिकारियों के मुताबिक पीएमसी घोटाले के पुरवां आरोपियों की गहरी साजिश की वजह से आम ने जनता को नुकसान हुआ। पैसा फंसने के सदमे करने की जान जा चुकी है।

से पीएमसी की अनियमितताओं के खिलाफलोग मांग लगातार प्रदर्शन कर रहे हैं। जिलाधिकारी पीएमसी घोटाले में बैंक के प्रमुख चुके अधिकारियों ऑडिटरों और एचडीआईएल के शिकायत प्रमोटरों समेत अब तक 7 लोगों को गिरफ्तार कार्यों किया जा चुका है। दूसरी ओर आरबीआई का हो कहना है कि पीएमसी की स्थिति पर नजर रखी प्रताप जा रही है। ग्राहकों के हितों को प्राथमिकता दी ने जाएगी।

आरबीआई ने पिछले दिनों कहा खाताधारकों के लिए रकम निकासी की सीमा दाहिने बढ़ाकर 50 हजार रुपए कर दी थी। की अस्तियां संगम