अमेजन ने सफाई देते हुए कहा है कि टिकटॉक डिलीट करने वाला ई-मेल गलती से चला गया था।

अमेजन ने सफाई देते हुए कहा है कि टिकटॉक डिलीट करने वाला ई-मेल गलती से चला गया था।

अमेजन के कर्मचारियों के पास ई-मेल की कॉपी वायरल होने के बाद टिकटॉक ने अपने एक बयान में कहा था कि प्राइवेसी को लेकर वह अपने यूजर्स के लिए प्रतिबद्ध है और यदि कोई समस्या है तो कंपनी इस मसले पर बात करने को तैयार है।

बता दें कि हाल ही में भारत ने 59 चाइनीज एप्स पर प्रतिबंध लगाया है। सरकार के बाद भारतीय सेना ने भी 89 मोबाइल एप्स पर प्रतिबंध लगाए हैं जिनमें टिकटॉक जैसे चाइनीज एप्स समेत शेयरचैट जैसे भारतीय एप्स के भी नाम हैं

भारत सरकार ने एक साथ 59 चाइनीज एप्स पर प्रतिबंध क्या लगाया, अब पूरी दुनिया की नजरें चाइनीज एप्स पर केंद्रित हो गई हैं। कुछ दिन पहले ही एक रिपोर्ट आई थी जिसमें कहा गया था कि अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया जैसे देश चाइनीज एप्स पर प्रतिबंध लगाने के बारे में विचार कर रहे हैं। 

अब हाल ही में एक खबर आई कि ई-कॉमर्स कंपनी अमेजन ने अपने कर्मचारियों को ई-मेल करके कहा है कि सभी लोग चाइनीज एप टिकटॉक को अपने फोन से डिलीट कर दें, हालांकि ई-मेल वायरल होने के बाद अमेजन ने सफाई देते हुए कहा है कि टिकटॉक डिलीट करने वाला ई-मेल गलती से चला गया था।
अच्छी डिजाइन, बड़ी बैटरी लेकिन एक ओवर प्राइस फोन!
अमेजन के कर्मचारी अभी भी टिकटॉक के एप और वेब दोनों वर्जन का इस्तेमाल कर सकते हैं। कंपनी के एक प्रवक्ता ने बताया कि टिकटॉक डिलीट करने वाला ई-मेल सिस्टम में आई एक खामी की वजह से चला गया था। टिकटॉक को लेकर  कंपनी की पॉलिसी में कोई बदलाव नहीं किया गया है।

अमेजन के कर्मचारियों के पास ई-मेल की कॉपी वायरल होने के बाद टिकटॉक ने अपने एक बयान में कहा था कि प्राइवेसी को लेकर वह अपने यूजर्स के लिए प्रतिबद्ध है और यदि कोई समस्या है तो कंपनी इस मसले पर बात करने को तैयार है।

बता दें कि हाल ही में भारत ने 59 चाइनीज एप्स पर प्रतिबंध लगाया है। सरकार के बाद भारतीय सेना ने भी 89 मोबाइल एप्स पर प्रतिबंध लगाए हैं जिनमें टिकटॉक जैसे चाइनीज एप्स समेत शेयरचैट जैसे भारतीय एप्स के भी नाम हैं।